Category Archives: Freedom Struggle

Freedom Struggle and Regional Movements in Himachal Pradesh

By | January 29, 2018

Events before 1857 A.D. From the treaty of the Lahore, the Rajas of Hill states became disillusioned with the British because the British did not give them their old estates as per the promise. In the second British-Sikh war (1848 A.D.), the principalities of Kangra hills, accompanied Sikh against the British. The hill principalities of… Read More »

Theog, Madhan Movement (ठियोग, मधान आंदोलन)

By | November 6, 2016

ठियोग, मधान आंदोलन (Theog, Madhan Movement): सन 1926 – 28 में इन रियासतों में जन आंदोलन शुरू हुआ । यहाँ आंदोलन को कुचलने के लिए ‘बलूची’ और ‘जेहलमी’ पुलिस (Jehlemi Police ) को तैनात किया गया । ‘मियां खड़क सिंह’ (Mian Khadak Singh) ने ठियोग आंदोलन को नया जन्म दिया ।

Chamba Agitation (चम्बा आंदोलन )

By | November 6, 2016

चम्बा आंदोलन (Chamba Agitation): चम्बा में ‘कर’ के खिलाफ व ‘बेगार’ की समाप्ति के लिए 1896 में ‘भटियात वज़ीरात’ (Bhattiyat Wazirat) दल बना कर संघर्ष शुरू किया गया । हालाँकि सरकार ने इसे दबाव बनाकर कुचल दिया ।

Kunihar Struggle (कुनिहार संघर्ष)

By | November 6, 2016

कुनिहार संघर्ष (Kunihar Struggle): ये शिमला पहाड़ी क्षेत्र की 7 वर्ग मील में विस्तृत एक छोटी सी रियासत थी। प्रथम आवाज राणा के अभद्र पूर्ण व्यवहार के विरुद्ध 1920 में उठी । उस समय रियासत का राणा हरदेव सिंह (Hardev Singh) था।

Rampur Bushahr Movement ( रामपुर बुशहर आंदोलन )

By | November 6, 2016

रामपुर बुशहर आंदोलन (Rampur Bushahr Movement) 1906 में बुशहर में (कर्मचारियों के विरुद्ध असहयोग आंदोलन) दुजम (DUJJAM) शुरू किया गया । पं. पदम देव ने रीत (महिलाओं की खरीद फरोख्त) के विरुद्ध आवाज उठाई, साथ ही छुआछूत व् बाल विवाह का भी विरोध किया ।

Sirmaur Satyagraha (सिरमौर सत्याग्रह)

By | November 6, 2016

सिरमौर सत्याग्रह (Sirmaur Satyagraha): 1920 के बाद सिरमौर में राजनितिक जागृति का उत्थान शुरू हो गया था । ‘चौधरी शेरजंग’ ने पंजाब में हुए क्रांतिकारी गतिविधियों से प्रभावित होकर एक गुप्त संग़ठन का गठन किया । इसी के चलते 1939 में ‘सिरमौर प्रजा मंडल’ का गठन किया गया । इसके प्रमुख नेता श्री चौधरी शेरजंग, शिवानंद रमौल, देविन्द्र… Read More »

Dhami Tragedy (धामी कांड)

By | November 6, 2016

धामी कांड (Dhami Firing Tragedy): पहाड़ी रियासतों के जन संघर्ष के मार्ग में धामी गोली कांड एक काला अध्याय है । धामी एक छोटी सी रियासत थी जो राणा शासन के अधीन थी ।

Bilaspur Struggle (बिलासपुर संघर्ष)

By | November 6, 2016

बिलासपुर संघर्ष (Bilaspur Struggle): 1905 में भूमि कर बंदोबस्त के समय से ही लोग इसके विरुद्ध थे । बिलासपुर में भूमि कर अन्य ब्रिटिश अधीन जिलों जैसे होशियारपुर और काँगड़ा की अपेक्षा ज्यादा वसूला जा रहा था । 1930 में भूमि बंदोबस्त अभियान शुरू कर दिया गया । “भदरपुर प्रांगण” के लोगों ने गाँव में काम कर रहे सरकारी… Read More »

Suket Satyagraha (सुकेत सत्याग्रह)

By | November 6, 2016

सुकेत सत्याग्रह (Suket Satyagraha-1948) : मंडी की तरह, 1914 के ग़दर आंदोलन का प्रभाव सुकेत पर भी पड़ा था । बेगार प्रथा और भ्रष्ट प्रशासन के विरुद्ध 1942 में लोगों ने आवाजें उठानी शुरू कर दी ।

Mandi Conspiracy (मंडी षड्यंत्र)

By | November 6, 2016

मंडी षड्यंत्र  (1914 -15): बेगार तथा राजा भवानी सेन और वजीर जीवा नन्द पाधा के उत्पीड़न से तंग आ कर मंडी के लोगों ने सरकाघाट के शोभा राम (Shobha Ram) के नेतृत्व में 1909 में मंडी जन आंदोलन शुरू किया ।